in

आनेवाले कड़ाके की ठण्ड को देखते हुए केन्द्र सरकार का एक बड़ा फैसला,

ब्रेकींग न्यूज – आनेवाले कड़ाके की ठण्ड को देखते हुए
केन्द्र सरकार का एक बड़ा फैसला,
“नहाये हुए व्यक्ति को छुने वाला व्यक्ति भी
नहाया हुआ माना जायेगा”
जनहित में जारी…

  1. ठंडी के मौसम में गुडमार्निंग संदेश दोपहर
    12.00 बजे तक स्वीकारे जायेंगे..
  2. सुबह ठंडा पानी डाल कर उठाना
    यह आतंकवादी हमले के बराबर माना जायेगा…
  3. रजाई खींचना देशद्रोह के बराबर…
  4. उसके बाद किसी ने चाय नही पिलायी
    तो “असहिष्णुता माना” जाये…

एक गुजराती ने एक हरियाणवी को कुआँ बेचा। अगले दिन चालाक गुजराती बोला- मैंने सिर्फ कुआँ बेचा है इसका पानी नही इसलिये तुम्हें पानी के प्रयोग के पैसे देते रहने होगें।
हरियाणवी बोला: हाँ भाई मैं भी यही कहण आऊँ था कि अपना पानी निकाल ले वर्ना काल त पानी राखण का किराया शुरू हो ज्यगा।
गुजराती बेहोश!

सास : “कितनी बार कहा है…
बाहर जाओ तो बिन्दी लगाकर जाया करो…
आधुनिक बहू…
पर जीन्स पर बिन्दी कौन लगाता है…??
सास : तो मैंने कब कहा जीन्स पर लगा…??
माथे पर लगा चुड़ैल…!! माथे पर…”

डॉक्टर- मुबारक हो, आप के घर लड़का पैदा हुआ है!
संता- अरे, यह तो कमाल की टेक्नॉलॉजी है। बीवी मेरी हॉस्पिटल में है और बच्चा घर में पैदा हुआ है।

एक बार एक व्यक्ति मरकर नर्क में पहुँचा, तो वहाँ उसने देखा कि प्रत्येक
व्यक्ति को किसी भी देश के नर्क में जाने की छूट है । उसने सोचा,
चलो अमेरिका वासियों के नर्क में जाकर देखें, जब वह वहाँ पहुँचा तो द्वार पर पहरेदार से
उसने पूछा – क्यों भाई अमेरिकी नर्क में
क्या-क्या होता है ? पहरेदार बोला – कुछ खास नहीं, सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक
चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे बरसायेगा… ! यह सुनकरवह
व्यक्ति बहुत घबराया और उसने रूस के नर्क की ओर रुख किया, और वहाँ के पहरेदार से भी वही पूछा, रूस के पहरेदार ने भी लगभग वही वाकया सुनाया जो वह अमेरिका के नर्कमें सुनकर आया था ।
फ़िर वह व्यक्ति एक- एक करके सभी देशों के नर्कों के दरवाजे जाकर आया, सभी जगह उसे भयानक किस्से सुनने को मिले । अन्त में जब वह एक जगह पहुँचा,
देखा तो दरवाजे पर लिखा था “भारतीय नर्क” और उस दरवाजे के बाहर उस नर्क में
जाने के लिये लम्बी लाईन लगी थी, लोग भारतीय नर्क में जाने को उतावले हो रहे थे,
उसने सोचा कि जरूर यहाँ सजा कम मिलती होगी… तत्काल उसने पहरेदार से
पूछा कि सजा क्या है ?
पहरेदार ने
कहा – कुछ खास नहीं…सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया येगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोडे बरसायेगा… !
चकराये हुए व्यक्ति ने उससे पूछा – यही सब तो बाकी देशों के नर्क में भी हो रहा है, फ़िर यहाँ इतनी भीड क्यों है ?
पहरेदार बोला – इलेक्ट्रिक चेयर तो वही है, लेकिन बिजली नहीं है, कीलों वाले बिस्तर में से कीलें कोई निकाल ले गया है, और कोडे़ मारने वाला दैत्य सरकारी कर्मचारी है, आता है, दस्तखत करता है और चाय-नाश्ता करने चला जाता है…और कभी गलती से
जल्दी वापस आ भी गया तो एक-दो कोडे़ मारता है और पचास लिख देता है…चलो आ
जाओ अन्दर !!!

Leave a Reply