in

Solar Panel Cell kaise kaam karta hai सौर ऊर्जा के लाभ और नुकसान

सोलर पैनल क्या है और Solar Panel Cell kaise kaam karta hai? सौर संयंत्र में बिजली कैसे उत्पन्न होती है इसके अलावा, सौर पैनलों के लाभों को भी इस लेख में वर्णित किया जाएगा। सबसे पसहले जानते हैं कि सौर पैनल क्या है – जब किसी बड़े पैनल को कई छोटे-छोटे सोलर सेल से जोड़कर बनाया जाता है, तो उस पैनल को सोलर पैनल कहा जाता है।

सोलर सेल क्या है – अगर सूर्य का प्रकाश सौर पैनल पर पड़ता है, तो सौर सेल सूर्य से ऊर्जा लेता है और उस ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित करता है। Hybrid Solar System और On Grid, Off Grid के Advantage क्या है।

Solar Panel Cell kaise kaam karta hai?

सौर सेल सिलिकॉन से बने होते हैं। सिलिकॉन एक अर्धचालक है।
सेमीकंडक्टर का अर्थ है – एक अर्धचालक पदार्थ वह है जिसका विद्युत गुण कंडक्टर और Insulator के बीच स्थित होता है। जर्मेनियम और सिलिकॉन इन पदार्थों के सबसे लोकप्रिय उदाहरण हैं।

  • बढ़ती गर्मी के साथ अर्धचालकों की विद्युत चालकता बढ़ जाती है, यही कारण है कि अर्धचालकों का प्रतिरोध गुणांक ऋणात्मक है।
  • अर्धचालक में कई अन्य उपयोगी गुण भी देखे जाते हैं, जैसे कि एक दिशा में धारा का प्रवाह दूसरी दिशा की तुलना में अधिक आसानी से होता है यानी अलग-अलग दिशाओं में अलग-अलग चालकता।
  • इसके अलावा, अर्धचालकों की चालकता को नियंत्रित मात्रा में जोड़कर कम या बढ़ाया जा सकता है।

सोलर पैनल कैसे काम करता है?

हमने आपको बताया कि सौर पैनल छोटे सिलिकॉन सौर कोशिकाओं से बने होते हैं। जब सूर्य की रोशनी इस सिलिकॉन सौर सेल के ऊपर से गुजरती है, तो इलेक्ट्रॉन सिलिकॉन सेल के अंदर प्रवाहित होते हैं। और यह इलेक्ट्रॉन करंट पैदा करता है।

Ek Engineer Solar Panel Cell Sahi Karte Huye

Solar Panel 2 Types Ke hote hain

Mono crystalline and polycrystalline

Mono crystalline सौर पैनलों का उपयोग – जहां सूरज की रोशनी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं है। जैसे – पहाड़ी क्षेत्रों में क्योंकि हर समय बादल हो सकते हैं। मोनो-क्रिस्टलीय सौर पैनल हमें कम धूप में भी विद्युत ऊर्जा देते हैं।

Poly crystalline सौर पैनलों का उपयोग – अधिक धूप वाले क्षेत्रों में किया जाता है। पॉलीक्रिस्टलाइन सौर पैनल मोनो सौर पैनलों की तुलना में कम दक्षता (efficiency) प्रदान करते हैं, जिसके कारण पॉली-क्रिस्टलीय पैनल मोनो पैनल की तुलना में सस्ते होते हैं।

यह भी पढ़े.- Convert common inverter to solar inverter. दोनों में इन्वर्टर में अंतर?

कई सौर पैनलों को जोड़ने के बाद, ये सभी सौर पैनल सौर ट्रैकिंग प्रणाली से जुड़े होते हैं। सोलर ट्रैकिंग सिस्टम किसी भी सोलर प्लांट का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। जिससे सोलर पैनल हमेशा सूरज की प्रकाश की ओर रहे.

जैसे – हम सभी जानते हैं कि सूर्य पूर्व से उगता है और पश्चिम में अस्त होता है। सौर ट्रैकिंग प्रणाली का कार्य सूर्य की किरणों की ओर सौर पैनल को घुमाना है। ताकि सूर्य के प्रकाश सीधे सौर पैनल पर गिर सकें।

How does the solar system work?

सबसे पहले, सौर पैनल हमारे संयंत्र में स्थापित होते हैं, वे सभी सौर ट्रैकिंग सिस्टम (STS) से जुड़े होते हैं।
Buck Boost Converter क्यों लागाया जाता है?
बक बूस्ट कन्वर्टरBuck Boost Converter का कार्य सोलर पैनल से डीसी सप्लाई को वापस डीसी में बदलना है। बक बूस्ट कन्वर्टर से निकली डीसी पावर को डीसी बस बार से कनेक्ट करते हैं। अंत में डीसी बस-बार बैटरी या इन्वर्टर से जोड़ दिए जाते हैं.

1MW से 5MW तक के सौर संयंत्र में, किसी ने बैटरी का उपयोग करते हुए देखा होगा। लेकिन 5MW से ऊपर के सौर संयंत्रों में, बैटरी का उपयोग नहीं किया जाता है।

इन्वर्टर – डीसी सप्लाई को सोलर पैनल से एसी करंट में परिवर्तित करने का काम करता है। हम इन्वर्टर से ट्रांसफार्मर तक एसी सप्लाई को कनेक्ट करते हैं।

सौर ऊर्जा के लाभ

  • किसी भी तरह से पर्यावरण को नुकसान न पहुंचाएं।
  • सौर संयंत्रों को अधिक रखरखाव की आवश्यकता नहीं होती है। बस समय-समय पर पैनल से धूल हटाना होगा।
  • इसकी मदद से हम अपने बिजली के बिल को काफी कम कर सकते हैं।
  • इसकी मदद से आसानी से कहीं भी बिजली पैदा की जा सकती है।
  • सौर पैनल को आसानी से घर पर स्थापित किया जा सकता है।

सौर ऊर्जा का नुकसान

  • शुरुआती समय में सौर संयंत्र स्थापित करने की लागत बहुत अधिक है। जिसमें सौर पैनल, बैटरी, इन्वर्टर और कुछ खर्च शामिल हैं। वैसे, सरकार सब्सिडी के जरिए थोड़ी मदद करती है।
  • सौर संयंत्रों को स्थापना के लिए अधिक स्थान की आवश्यकता होती है।
  • यह ऊर्जा पूरी तरह से मौसम पर निर्भर है। हमें बारिश के दौरान या बादल होने पर बहुत कम बिजली मिलती है।
  • रात के समय सौर से बिजली प्राप्त नहीं कर सकते।

Leave a Reply